Heart Touching Gulzzar shayari-हार्ट टचिंग गुलज़ार शायरी 

शायर से तुम उसके राज न पूछो ,, कल खुद ही लिख देगा बस तुम आज न पूछो

खुदा करे वो________,,  जिंदगी भर मेरे साथ हो,, जितना अभी दूर है______,,  उतनी ही पास हो

ये दर्द का सिलसिला यूंही चलता रहेगा लोग जख्म देते रहेंगे कारवां बढ़ता रहेगा

तेरी खुशी के ठिकाने बहुत होगे मगर,,,,,, मेरी बैचेनी की वजह सिर्फ तुम हो

किसी के अंदर ज्यादा डुबोगे तो टूटना तो पड़ेगा... यकीन न हो तो बिस्कुट से पूछ लो

खाली "हाथों" को भी...कभी "गौर" से..."देखा" कीजिये.....* : *किस तरह से "निकल" जाते हैं..."लोग"..."लकीरों" से...

जब तक खुद पर ना गुजरे एहसास और ज़ज्बात मज़ाक ही लगते हैं

जब अपने ही परिंदे         किसी और के दाने के   आदी हो जाए तो उन्हें       आजाद कर देना चाहिए

शाम को तेरा हंस कर मिलना ,, दिन भर की तनख़्वाह है मेरी___!!